Sat. Aug 6th, 2022

सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड जिनकी शक्ति से संचालित है उन देवाधिदेव महादेव का अद्वितीय मन्दिर,

होयसल साम्राज्य के राजा विष्णुवर्धन द्वारा एक मानव निर्मित कृत्रिम झील के किनारे होयसलेश्व मन्दिर का निर्माण १२ वीं सदी में करवाया गया था।

श्री होयसलेश्व मन्दिर भगवान शिव को समर्पित है।

श्री होयसलेश्व मन्दिर का निर्माण soapstone पत्थरों से किया गया है।

इस मन्दिर का कोई भी एक फीट स्थान कलाकृतियों से रहित नहीं है।

कितना श्रमसाध्य रहा होगा यह कार्य जिन्हें सनातनी शिल्पकारों ने अपने निपुण हाथों से सम्भव किये हैं।

इस दिव्य कला को शुक्रवारी ने कलाकारों के हाथों को काटकर और पुस्तकालयों को जलाकर लुप्त कर दिया।

जो कुछ शेष कला बचा उसे इतवारियों ने ग्रँथ चौर्य कर निर्लज्जता से अपने नाम करवा लिया।

अद्भुत सनातन धरोहर!!

जय सनातन धर्म🙏🚩

जय महाकाल🔱🚩

#प्रेमझा. Sabhar soniya Singh Facebook wall





Leave a Reply

Your email address will not be published.