Thu. Jun 13th, 2024

Category: अंतर्राष्ट्रीय

अयोध्या का रेलवे स्टेशन हुआ राममय

अयोध्या में होगा सबकुछ राममय, अब गुलामी की निशानी तोड़कर कैंट रेलवे स्टेशन को दिया राममंदिर का रूप अयोध्या का रेलवे स्टेशन हुआ राममय आध्यात्मिकता को समेटे हुए है ये…

महुली राज के हरिहरपुर स्टेट के कोट पर कुल देवी की पूजा

महुली राज के हरिहरपुर स्टेट के कोट पर कुल देवी की पूजा की गयी जिसमे १२ कोट पाल राजवंश परिवार और राजा साहब महसों अंशुमान पाल लाल साहब भिटहा अभय…

कत्यूरी शासक ब्रह्मदेव नेपाल में ब्रह्मदेव मंडी

अंतिम कत्यूरी शासक राजा ब्रह्मदेव थे *जिनके नाम से पुण्यागिरी के पास काली नदी के पार नेपाल में ब्रह्मदेव मंडी भी है* उस समय पश्चिमी नेपाल मैं भी कतयुरी राजाओं…

उत्तर भारत का सबसे प्राचीन मंदिर होने का गौरव तालेश्वर मंदिर को प्राप्त है

जय श्री तालेश्वर महादेव की🙏 k⁸ उत्तर भारत का सबसे प्राचीन मंदिर होने का गौरव तालेश्वर मंदिर को प्राप्त है यहां पर प्राचीन राजा का महल के बिखरे हुए अवशेष…

कत्युरी साम्राज्य में रियासत कालीन बाजार गांव क्षेत्र में एक मुखी दुर्लभ शिवलिंग का मिलना चर्चा का विषय है

आज कल लखमपुर ,चौखुटिया का हाट गाव जो कभी कत्युरी साम्राज्य में रियासत कालीन बाजार हुआ करता था इसीलिए इस गांव का नाम हाट पड़ा इस गांव क्षेत्र में विशाल…

कामेच्छा बढ़ाने का काम करता है मेथीदाना

कामेच्छा बढ़ाने का काम करता है मेथीदाना भारतीय और अन्य एशियाई देशों में अपनी यौन क्रियाओं को बढ़ाने की इच्छा रखने वाले लोगों को पश्चिम के उत्पादों की तरफ देखने…

झांसी की रानी लक्ष्मीबाई द्वारा महाराजा मर्दन सिंह जुदेव को सैन्य सहायता के लिए लिखा गया हस्तलिखित दुर्लभ पत्र

झांसी की रानी लक्ष्मीबाई द्वारा महाराजा मर्दन सिंह जुदेव को सैन्य सहायता के लिए लिखा गया हस्तलिखित दुर्लभ पत्र.. !! अंग्रेजो के दांत खट्टे करने वाली,झांसी की रानी लक्ष्मीबाई के…

चंद्रयान-3 से आई चांद की ये पहली8 तस्वीर

चंद्रयान-3 ने चांद की पहली तस्वीर भेजी है. भारत का चंद्रयान-3 पांच अगस्त को चांद की कक्षा में प्रवेश कर चुका है. आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा के स्पेस सेंटर से…

कत्यूरी राजवंश की उत्तर प्रदेश शाखा का विवरण

कत्यूरी राजवंश महसों का दरबार का चित्र इतिहासकारों के अनुसार कत्यूरों की राजधानी मूलतः जोशीमठ में हुआ करती थी, जिसे ब्रह्मपुर नाम से पहचाना जाता था. राजा असन्तिदेव के समय…