Thu. Jun 13th, 2024

कत्यूरी राजवंश उत्तराखंड का एक ऐतिहासिक राजवंश रहा है जब अयोध्या के राजा सुमित्र मगध के राजा महा पदमनन्द से पराजित हो गए तो अयोध्या से सूर्यवंश और भगवान राम के वंसजो का शासन समाप्त हो गया इस यद्ध में सुमित्रा मारे नहीं गए थे अयोध्या घराने के राजकुमार शालिवाहन देव जोशी मठ में शासन किया आगे इनके वंशजो बासुदेव हुए कार्तिकेय पुर घाटी में कत्यूरी राजवंश की नीँव डाली कत्यूरी साम्राज्य अफ़ग़ानिस्तान से ले कर सिक्किम रुहेलखंड उत्तराखंड नेपाल तक फैला था बसंत देव ललित सुर देव पुराल देव असंती देव कटारमल देव धाम देव अंतिम कत्यूरी सम्राट ब्रम्ह देव जिनके नाम पे नेपाल में ब्रम्ह देव मंडी है जिसकी स्थापना ब्रम्ह देव ने की थी तिब्बत तक भी कत्यूरी साम्राज्य फैला था ब्रम्ह देव के बाद कत्यूरी साम्राज्य का विघटन हो गया ब्रम्ह देव के पुत्र त्रिलोक पाल देव जो वैराठ के राजा थे इनके बड़े पुत्र निरंजन देव धोती नेपाल में राज्य की स्थापना किया छोटे पुत्र अभय पाल देव ने अस्कोट में राज्य स्थापित किया अभय पाल के बाद अस्कोट के राजा निर्भय पाल देव हुए अभय पाल के छोटे पुत्र अलख देव और तिलक देव महुली पूर्वी उत्तर प्रदेश में शासन किया अलख देव महुली के शासक हुए तिलक देव के वंशजो में अमोढ़ा बस्ती राज्य पर शासन किया राम की मुख्या शाखा का अस्तित्व आज भी है अस्कोट से अभय पाल देव के वंसज धारचूला निसिल देथाला और उकु में शासन किया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *